आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Monday, March 7, 2016

बुखार और शिव जी का धतूरा



आज आप सभी ने शिव जी को धतुरा अर्पित किया होगा। प्रसाद में एक धतूरा उनसे वापस लेकर उसके बीज निकाल लीजिये और सुखा  कर किसी  कांच की शीशी में सुरक्षित रखिये। जब बुखार किसी दवा से न जा रहा हो तो सिर्फ २ बीज पानी  निगल लीजिये। बुखार आपको ही नहीं बल्कि आपका मोहल्ला छोड़ के फरार हो जाएगा।  


इन आलेखों में पूर्व विद्वानों द्वारा बताये गये ज्ञान को समेट कर आपके समक्ष सरल भाषा में प्रस्तुत करने का छोटा सा प्रयत्न मात्र है .औषध प्रयोग से पूर्व किसी मान्यताप्राप्त हकीम या वैद्य से सलाह लेना आपके हित में उचित होगा

1 comment:

Digamber Naswa said...

जय भोले ... प्रसाद में ताकत तो होनी ही हिया शिव के ...