आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Sunday, March 1, 2015

मेरे मित्र ने whatsapp पर ये दोहे भेजे हैं ,इनमें से कई दवाएं मैं प्रयोग कर भी चुकी हूँ और प्रयोग करवा भी चुकी हूँ , आप भी प्रयोग करें ---

१- दही मथे माखन मिले ,केसर संग मिलाय 
होठों पर लेपित करें ,रंग गुलाबी आय। 

२- बहती यदि जो नाक हो ,बहुत बुरा  हो हाल 
युक्लिप्टस तेल लें ,सूंघे डाल  रुमाल। 

३-अजवाइन को पीस लें ,गाढ़ा लेप लगाय 
चार्म रोग सब दूर हों ,तन कंचन बन जाय। 

४-अजवाइन को  पीस  लें, नीबू संग मिलाय 
फोड़ा- फुंसी दूर हो ,सभी बाला टल जाय। 

५-अजवाइन -गुड खाइये ,तभी बने कुछ  काम 
पित्त रोग में लाभ हो ,पाएंगे आराम। 

६-ठंड लगे  जब आपको , सर्दी से बेहाल 
नीबू -मधु के साथ में ,अदरक पियें  उबाल। 

७- अदरक का रस लीजिये, मधु लेवें सम भाग
नियमित सेवन जब करें सर्दी जाए  भाग। 

८- रोटी मक्के की भली ,खा लें यदि भरपूर 
बेहतर लीवर आपका ,टी बी भी हो दूर। 

९- गाजर रस संग आवला ,बीस औ चालीस ग्राम 
रक्तचाप ह्रदय सही ,पाएं सब आराम। 

१०- शहद, आवला जूस हो, मिश्री सब दस ग्राम 
बीस ग्राम घी साथ में ,यौवन स्थिर काम। 

११- चिंतित  होता क्यों भला ,देख बुढ़ापा रोय 
चौलाई, पालक भली ,योवन स्थिर होय। 

१२- लाल टमाटर लीजिये, खीरा सहित सनेह  
जूस करेला साथ हो ,दूर करे मधुमेह। 

१३- प्रात  संध्या पीजिये ,खाली पेट सनेह 
जामुन गुठली पीसिये नहीं रहे मधुमेह। 

१४-सात पत्र लें नीम के खाली पेट चबाय 
दूर करे मधुमेह को ,सब कुछ मन को भाय। 

१५- सात फूल ले  लीजिये, सुन्दर सदाबहार 
दूर करे मधुमेह को जीवन से हो प्यार। 

१६- छाछ हींग  सेंधा नमक दूर करे सब रोग ,
जीरा  उसमें दाल कर पियें सदा यह भोग। 

१७- अजवाइन लें छाछ संग मात्रा ५ ग्राम 
कीट पेट के नष्ट हों जल्दी  हो आराम। 

१८- तुलसीदल दस लीजिये उठ कर प्रातः काल 
सेहत सुधरे आपकी तन- मन मालामाल। 

१९- अजवाइन और हींग लें  लहसुन  संग पकाय 
मालिश जोड़ों की करें दर्द दूर हो जाय। 

२०- एलोवेरा- आंवला  करे खून में वृद्धि 
उदर- व्याधियां दूर हों जीवन में हो सिद्धि। 

२१- दस्त अगर आने लगे, चिंतित दीखे माथ 
दालचीनी का पावडर लें पानी के साथ।   

२२- कफ से पीड़ित हों अगर,खांसी बहुत सताय 
अजवाइन की भाप लें कफ तब बाहर आय। 

२३-ठंड अगर लग जाय  जो, नहीं बने कुछ काम 
नियमित पी लें गुनगुना पानी दे आराम। 

२४-पीता थोड़ी छाछ जो ,भोजन करके रोज 
नहीं जरुरत वैद्य की, चेहरे पर हो ओज।

२५-मधु का सेवन जो करे ,सुख पावेगा सोय 
कंठ सुरीला साथ में, वाणी मधुरिम होय। 

२६-नीबू बेसन जल शहद मिश्रित लेप लगाय 
 चेहरा सुन्दर तब बने ,बेहतर यही उपाय। 

२७- बीस एम एल रस आंवला, हल्दी हो एक ग्राम 
सर्दी कम तकलीफ में,फ़ौरन हो आराम। 

२८- बीस मिली रस आंवला, ५ ग्राम मधु संग 
सुबह शाम में चाटिये ,बढे ज्योति सब दंग। 

२९- कंचन  काया को कभी ,पित्त अगर दे कष्ट 
घृतकुमारी संग आंवला, करे उसे भी नष्ट। 

३०-मुंह में बदबू हो अगर, दालचीनी मुख डाल 
बने सुगन्धित मुख ,महक दूर होय तत्काल। 

३१-थोड़ा सा गुड लीजिये, दूर रहें सब रोग 
अधिक कभी मत खाइये चाहे मोहनभोग। 

2 comments:

मनोज कुमार said...

उपयोगी।

Anonymous said...

अरे भाई साहब ये कोई कलर है पोस्ट करने के लिए ...ठीक से पड़ा भी नही जा रहा