आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Tuesday, February 14, 2017

आयुर्वेद क्या है

            आयुर्वेद का अर्थ है आयु की रक्षा करने का ज्ञान, प्राकृतिक आपदाओं जैसे आंधी तूफ़ान ,भूचाल,अकाल, लू, बर्फ, पानी आदि में भी शरीर को चैतन्य बनाये रखने का ज्ञान।वर्ष में 6 ऋतुएँ होती है, प्रत्येक ऋतु में उचित खान पान और जड़ी बुटियों की सहायता से शरीर की जीवनी शक्ति को यथावत रखने का ज्ञान ही आयुर्वेद है।
बड़े भाग मानुष तन पावा।
यह पंक्ति मानुष तन की वास्तविक शक्ति को परिभाषित करती है।इसी तन की सहायता से तन में निवास करने वाली आत्मा तपस्या की पराकाष्ठा को पा सकती है।अन्य किसी जीव जंतु वनस्पति ,कीट, पक्षी आदि के शरीर में रह कर तपस्या संभव नहीं क्योंकि मस्तिष्क सिर्फ मनुष्य को ही मिला है।तपस्या ही वह ज्ञान है जिसकी तलाश सदियों से मनुष्य करता आया है।इस ज्ञान की प्राप्ति के लिए शरीर में ताकत तो जरुरी है क्योंकि 
भूखे भजन न होय गोपाला
शरीर कही तकलीफ में होगा तो आप भजन तो नहीं कर पाएंगे।कही दर्द हो रहा होगा तो फ़िल्म देखना ,घूमना टहलना भी अच्छा नहीं लगेगा।तप तो दूर की बात है।
आज हम जानते है  कि सदियों पहले युद्ध होते थे, घोड़े हाथी, तलवार, फरसे, धनुष, कटार प्रयोग होते थे। दिन ढलते ही युद्ध रुक जाते थे।फिर घायल सैनिकों और जानवरों को रात ही रात में उपचार करके अगले दिन के युद्ध के लिए स्वस्थ कर दिया जाता था।सोचिये कैसी जड़ी बुटियों की ताकत थी कि गहरे घाव सुबह तक भर जाते थे,टूटी हड्डियाँ ठीक हो जाती थीं।उन्ही जड़ी बुटियों की धरा पर आज हम पूरा जीवन टैबलेट और कैप्सूलों के सहारे काट रहे हैं।दर्द में जी रहे हैं।100 लोगों से पूछ लीजिये, एक भी ऐसा नहीं मिलेगा जिसको एक माह के अंदर कोई दवा न खानी पड़ी हो।
हम आयुर्वेद को भुला बैठे हैं, जीवन का उद्देश्य भुला बैठे हैं ।इसीलिए दुखी हैं।रोज रामचरित मानस के पाठ होते हैं, हजारों लोग प्रवचन की दूकान खोले बैठे हैं लेकिन किसी की निगाह इस पंक्ति पर नहीं जाती कि आखिर मानुष तन को दुर्लभ श्रेणी क्यों दी गयी है, पुराणों में ?
हजार वर्ष पूर्व तक भी आयुर्वेद जिंदगी में शामिल था।राजा महाराजा आकर्षक व्यक्तित्व और बलिष्ठ शरीर के स्वामी होते थे और लंबी आयु जीते थे।आम मनुष्य भी स्वस्थ और बलिष्ठ होते थे।निरोगी होते थे।वे समयानुसार ऋतुओ के अनुसार जड़ी बुटियों का सेवन करते थे।रोगी और निर्बल कोई होता ही नहीं था। आज हम रोगी होने का इन्तजार करते हैं फिर एलोपैथ ,होमियोपैथ, नेचुरोपैथ ,झाड़ फूक, आदि सब ट्राई करके भी स्वस्थ नहीं होते हैं तो मरता क्या न करता वाली मानसिकता में आकर आयुर्वेद के विषय में सोचते हैं कि लाओ इसको भी ट्राई कर लें।

No comments: