आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Tuesday, October 25, 2016

कोलायटिस, पाइल्स

अर्जुन विलम्ब पातक होगा ।
शैथिल्य प्राणघातक होगा ।।
             यह पक्तियां रोग के सन्दर्भ में बिलकुल सटीक हैं , क्योंकि रोग भले ही कैंसर, एड्स, वायरल जैसे जानलेवा हों, अगर शुरू होते ही इनका इलाज हो तो ख़त्म हो जाते हैं।किन्तु हम भारतीयों को रोग पालने की आदत है, इसी कारण बहुत छोटी छोटी बीमारियां जीवन भर के लिए अभिशाप बन जाती हैं। जैसे साधारण सी सर्दी खांसी बाद में दमबन जाती है
            खैर दीपावली के इस मौसम में शरीर की भलाई के लिए जिमीकन्द/ओल/सूरन का प्रयोग सब्जी, भर्ता या अचार के रूप में जरूर करें।
यह बवासीर, कोलायटिस, भगंदर की बहुत अच्छी दवा है।लगातार एक माह प्रयोग कीजिए।

No comments: