आयुर्वेद का अर्थ औषधि - विज्ञान नही है वरन आयुर्विज्ञान अर्थात '' जीवन-का-विज्ञान'' है

Followers

Monday, November 28, 2016

भिलावा और भिलावा रसायन

भिलावा कोसंस्कृत में भल्लातक कहते हैं और वैज्ञानिक भाषा में Semicarpus anacardium ।इसका पेड़ 30 फुट तक ऊँचा देखा गया है  ।इस पेड़ में हरे और पीले दो तरह के फूल खिलते हैं जिसमे से एक नर फूल होता है और दूसरा मादा।
भिलावा के फल में दो तरह का तेल पाया जाता है।इसकी गिरी के अंदर मीठा तेल और फल के रस में काले रंग का विषैला तेल।यह तेल शरीर में कहीं भी लग जाए तो छाले पड़ जाते है।
भिलावा एक ऐसा फल है जिसमें कैंसर को जड़ से खतम कर देने की ताकत है ।
यह फल कफनाशक, पित्त नाशक और वातनाशक भी है। यह हृदय रोग, आमाशय रोग, दन्त रोग और पुराने बुखार को भी ठीक करता है।यह सांप के जहर को मारता है। यह चर्म रोग को भी सही करता है।कोई घाव सड़ गया हो तो इसी भिलावे के तेल से वह सही हो जाता है और अंग काटने की नौबत नहीं आती।तिल्ली या लीवर बढ़ गया हो तो भिलावा रामबाण औषध है।यदि कफ के साथ रक्त आ रहा है तो फौरन भिलावे की शरण में जाएँ।
इसके इतने सारे फायदे हैं किंतु जैसे मैंने अन्य लेखों म यह बताया है कि इसकी दवाएं किस तरह से बनाएं ,उस तरह भिलावे की किसी दवा की निर्माण विधि मैं नहीं लिख सकती क्योंकि यह बहुत खतरनाक चीज है ।इसका तेल ज़रा सा भी शरीर मे कहीं पर लग जाए तो छाले और जलन महीनो तक परेशान करती है।
भिलावा रसायन के फायदे जो अगस्त्य मुनि ने बताये हैं और भैषज्य रत्नावली में उद्धृत हैं-------
इस रसायन के प्रताप से रोगी हाथी के समान बलवान, घोड़े के समान वेगवान और बृहस्पति से भी अधिक बुद्धिमान हो जाता है।बड़े बड़े ग्रन्थ को समझ लेता है और याद कर लेता है।500 वर्ष तक जीता है।इससे सभी कुष्ठ रोग अवश्य दूर हो जाते हैं।मनुष्य सुवर्ण के समान कांतिमान हो जाता है।टूटे दांत निकल आते हैं और सफ़ेद बाल भी काले हो जाते हैं, मोर के समान उत्तम स्वर हो जाता है।प्रसन्न इन्द्रियों वाला और विशेष प्रतिभाशाली हो जाता है।नवयौवन चिरस्थायी हो जाता है।
मेरा अनुभव यह कहता है कि प्रत्यइठंड के मौसम मे 3 माह यदि भिलावा रसायन खा लिया जाए तो आप अपने शरीर के साथ वास्तविक न्याय करेंगे।शरीर हमेशा खिला खिला सा रहेगा।अनेक छोटी छोटी समस्याएं स्वतः समाप्त हो जाएंगी।इम्युनिटी तो बढ़ेगी ही।
मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाको में इसका बहुत सेवन होता है। आदिवासी लोग इसको भून कर इसके अंदर की गिरी खाते है।पर इसकी एक गिरी एक दिन मे पचना भी मुशकील होता है। इसे खाने का आसान तरीका भिलावा रसायन ही है जो सुरक्षित है और स्वादिष्ट भी।
म्र को बहुत तेजी से थामता है भिलावा रसायन।

3 comments:

surendra gaur said...

ye teen mahine ka kitni kimat ka hai kya aap mere whatsapp no. 9871118940 par bata sakte hai. aur ye sarduyon me kab se kab tak khana chahiye

surendra gaur said...

iski importance apne batai aap iska rate bhi bata digiye

sulendra katre said...

Surendra bhi Mai uske bare me Jada to nahi Janta par aapko iska dal lake de Sakta hu contact me 7756042837